BACK

Joint Statement by the Three Science Academies of India

7 comments

6315 Views


Tagged in ,

Summary

It would be a retrograde step to remove the teaching of the theory of evolution from school and college curricula or to dilute this by offering non-scientific explanations or myths.

Full Article

The full text of the statement by Indian Academy of Sciences, Indian National Science Academy and National Academy of Sciences, India:

 

The Hon. Minister of State for Human Resource Development, Shri Satyapal Singh has been quoted as saying that “Nobody, including our ancestors, in writing or orally, have said they saw an ape turning into a man. Darwin’s theory (of evolution of humans) is scientifically wrong. It needs to change in school and college curricula.”

The three Science Academies of India wish to state that there is no scientific basis for the Minister’s statements. Evolutionary theory, to which Darwin made seminal contributions, is well established. There is no scientific dispute about the basic facts of evolution. This is a scientific theory, and one that has made many predictions that have been repeatedly confirmed by experiments and observation. An important insight from evolutionary theory is that all life forms on this planet, including humans and the other apes have evolved from one or a few common ancestral progenitors.

It would be a retrograde step to remove the teaching of the theory of evolution from school and college curricula or to dilute this by offering non-scientific explanations or myths.

The theory of evolution by natural selection as propounded by Charles Darwin and developed and extended subsequently has had a major influence on modern biology and medicine, and indeed all of modern science. It is widely supported across the world.
See for example http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

 

====================

DISCLAIMER: The English version  presented above is the originally issued statement and is to be considered as the version for records.

====================

भारतीय विज्ञान अकादमी, भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी तथा राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, इंडिया के संयुक्त वक्तव्य का पूरा आलेख:

बताया गया है कि माननीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री श्री सत्यपाल सिंह ने कहा है कि हमारे पूर्वजों सहित किसी ने भी कभी यह कहा या लिखा नहीं है कि उन्होंने बंदर को मनुष्य में परिवर्तित होते हुए देखा है। डार्विन का (मनुष्य के क्रम-विकास का) सिद्धान्त वैज्ञानिक रूप से गलत है। अतः इसे विद्यालयों तथा महाविद्यालयों के पाठ्यक्रम में बदलना होगा।

तीनों विज्ञान अकादमियाँ यह कहना चाहती हैं कि मंत्री महोदय के कथन का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। विकासवाद का सिद्धान्त (Theory of Evolution), जिसमें डार्विन ने महान योगदान दिया है, पूरी तरह प्रस्थापित है। विकासवाद के मूल तथ्यों के बारे में कोई वैज्ञानिक मतभेद नहीं है। यह एक ऐसा वैज्ञानिक सिद्धान्त है जिसने ऐसी कई भविष्यवाणियाँ की हैं जिनका अनेकों बार प्रयोगों तथा निरीक्षणों के द्वारा पुष्टिकरण किया जा चुका है। विकासवाद के सिद्धान्त की एक महत्वपूर्ण अन्तदृष्टि यह है कि मनुष्य तथा अन्य बंदरों सहित इस ग्रह के सभी प्राणियों का विकास एक या कुछ समान पैतृक प्रजनकों (common ancestral progenitors) से हुआ है।

विद्यालयों तथा महाविद्यालयों के पाठ्यक्रमों से विकासवाद के सिद्धान्त की पढ़ाई को निकाल देना या उसे किसी अन्य अवैज्ञानिक व्याख्यान या कल्पित गाथा से अपमिश्रित करना, एक बहुत ही पश्चगामी (retrograde) कदम होगा।

चार्ल्स डारविन द्वारा प्रतिपादित और उनके बाद विकसित एवं विस्तारित किया गया प्राकृतिक चयन द्वारा विकासवाद के सिद्धान्त का आधुनिक जीवविज्ञान, चिकित्साविज्ञान तथा संपूर्ण विज्ञानशास्त्र पर महान प्रभाव रहा है। पूरे विश्व में इसका समर्थन किया जाता है। उदाहरण के लिए देखें: http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

 

====================

 

பரிணாம வளர்ச்சி: இந்தியாவின் மூன்று அறிவியல் சங்கங்களின் அறிக்கை (இ அ ச, தே அ ச, மற்றும் இ தே அ ச)* .

 

நமது மத்திய (மாநில) மனிதவள மேலாண்மை அமைச்சர் மாண்புமிகு திரு. சத்யபால் சிங் அவர்கள் “எவரும், நம் முன்னோர்கள் உட்பட, ஒரு குரங்கு மனிதராக மாறுவதை எங்கும் சொல்லவோ அல்லது எழுதவோ இல்லை.டார்வினின் பரிணாம வளர்ச்சி கோட்பாடு அறிவியலின் படி தவறு. இதைப் பள்ளி மற்றும் கல்லூரிப்பாடங்களிலிருந்து நீக்க வேண்டும் ” என்று கூறியதாக தெரிகிறது.

இந்தியாவின் மூன்று அறிவியல் சங்கங்களும் அமைச்சரின் இக்கருத்துக்கு அறிவியல் அடிப்படை ஏதும் இல்லை என்று அறிவிக்க விழைகின்றன. பரிணாம வளர்ச்சிக் கோட்பாடு டார்வினின் மிக முக்கியமான பங்களிப்பால் அனைவராலும் ஏற்றுக்கொள்ளப் பட்டுள்ளது. அறிவியலாளர்கள் இடையே இக்கோட்பாடைப்பற்றிக் கருத்து வேறுபாடு இல்லை. இது ஒரு அறிவியல் கோட்பாடு. இதன் அடிப்படையில் அனுமானிக்கப் பட்ட பலவும் பரிசோதனைகளில் நிரூபிக்கப் பட்டுள்ளன. இப்பரிமான வளர்ச்சிக் கோட்பாட்டின் முக்கிய அம்சம் என்னவென்றால் இவ்வுலகில் காணப்படும் அணைத்து உயிரினங்களும், மனிதர்கள் மற்றும் குரங்குகள் உட்பட, ஒன்று அல்லது சில பொதுவான மூதாதையர்கள் வழியாக உருவானவை.

இக்கோட்பாட்டைப் பள்ளி மற்றும் கல்லூரிப் பாடத்திட்டங்களில் இருந்து நீக்குவது மற்றும் இதற்கு மாற்றாக அறிவியல் சாரத கட்டுக்கதை விளக்கங்கள் இணைப்பது மிகவும் பிற்போக்கான செயல்.

சார்லஸ் டார்வினால் எடுத்துரைக்கப்பட்ட பரிமாண வளர்ச்சிக் கோட்பாடு மற்றும் இயற்கைத் தேர்வு முறை மேலும் பல அறிவியலாளர்களின் பங்களிப்பால் மிகவும் வளர்ந்துள்ளது. இது நவீன உயிரியல் மற்றும் மருத்துவத் துறைகளில், ஏன் நவீன அறிவியலில், பெரும் பங்காற்றுகிறது. இதற்கு உலகளாவிய ஆதரவு உள்ளது. மேலும் விபரங்களுக்குக் காண்க: http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

 

*இந்திய அறிவியல் சங்கம், தேசிய அறிவியல் சங்கம் மற்றும் இந்திய தேசிய அறிவியல் சங்கம்

 

====================

ಐಎಎಸ್ಸಿ (ಬೆಂಗಳೂರು), ಐಎನ್‍ಎಸ್ಎ(ನವದೆಹಲಿ) ಮತ್ತು ಎನ್‍ಎಎಸ್‍ಐ(ಅಲಹಾಬಾದ್) ಈ ಮೂರು ಭಾರತೀಯ ವಿಜ್ಞಾನ ಅಕಾಡಮಿಗಳ ಜಂಟೀ ಹೇಳಿಕೆಯ ಪೂರ್ಣ ಪಾಠ:

ಮಾನವ ಸಂಪನ್ಮೂಲ ಅಭಿವೃದ್ಧಿ ಸಚಿವಾಲಯದ ಮಾನ್ಯ ರಾಜ್ಯಸಚಿವರಾದ ಗೌರವಾನ್ವಿತ ಶ್ರೀ ಸತ್ಯಪಾಲ ಸಿಂಗ್ ಅವರು “ ನಮ್ಮ ಪೂರ್ವಜರೂ ಸೇರಿದಂತೆ ಯಾರೂ ಬರಹದ ಮೂಲಕವಾಗಲೀ ಮೌಖಿಕವಾಗಿಯಾಗಲೀ ಕಪಿಯು ಮಾನವನಾಗಿ ಬದಲಾಗಿರುವುದನ್ನು ನೋಡಿರುವುದಾಗಿ ಹೇಳಿಲ್ಲ. ಡಾರ್ವಿನ್ನನ ಸಿದ್ಧಾಂತ (ಮಾನವ ವಿಕಾಸವನ್ನು ಕುರಿತು) ವೈಜ್ಞಾನಿಕವಾಗಿ ತಪ್ಪು. ಇದನ್ನು ಶಾಲಾಕಾಲೇಜುಗಳ ಪಠ್ಯಕ್ರಮದಲ್ಲಿ ಬದಲಾಯಿಸಬೇಕು” ಎಂದು ಹೇಳಿರುವುದಾಗಿ ಉದ್ಧರಿಸಲಾಗಿದೆ.

ಮೂರೂ ಭಾರತೀಯ ವಿಜ್ಞಾನ ಅಕಾಡಮಿಗಳು ಸಚಿವರ ಈ ಹೇಳಿಕೆಗೆ ಯಾವುದೇ ವೈಜ್ಞಾನಿಕವಾದ ಆಧಾರವಿಲ್ಲ ಎಂಬುದನ್ನು ತಿಳಿಸಲು ಇಚ್ಛಿಸುತ್ತವೆ. ವಿಕಾಸ ಸಿದ್ದಾಂತಕ್ಕೆ ಡಾರ್ವಿನ್ ಮೂಲಭೂತವಾದ ಕೊಡುಗೆಗಳನ್ನು ನೀಡಿರುವುದು ಈಗಾಗಲೇ ಸ್ಥಾಪಿತವಾಗಿದೆ. ವಿಕಾಸವಾದದ ಮೂಲಭೂತವಾದ ಸತ್ಯಗಳಿಗೆ  ಸಂಬಂಧಿಸಿದಂತೆ ವೈಜ್ಞಾನಿಕವಾದ ವಿವಾದಗಳಿರುವುದಿಲ್ಲ. ಇದೊಂದು ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಸಿದ್ಧಾಂತವಾಗಿದ್ದು ಈ ಕುರಿತ ಅನೇಕ ಊಹೆಗಳನ್ನು ಪುನರಾವರ್ತಿತ ಪ್ರಯೋಗಗಳು ಮತ್ತು ವೀಕ್ಷಣೆಗಳ ಮೂಲಕ ಧೃಡೀಕರಿಸಲಾಗಿದೆ. ವಿಕಾಸ ಸಿದ್ಧಾಂತದ ಒಂದು ಒಳನೋಟವೇನೆಂದರೆ, ಈ ಗ್ರಹದಲ್ಲಿ ಮಾನವ ಮತ್ತಿತರ ಮಂಗಗಳೂ ಸೇರಿದಂತೆ ಜೀವರಾಶಿಗಳು ರೂಪಪಡೆದಿವೆ ಅಲ್ಲದೆ ಒಂದು ಅಥವಾ ಹಲವುಹೆಚ್ಚು ಸಮಾನ ಪೂರ್ವಿಕ ಸಂತತಿಯ ಗುಣಗಳ ಮೂಲಕ ವಿಕಾಸವಾಗಿದೆ.

ಶಾಲೆ ಮತ್ತು ಕಾಲೇಜುಗಳ ಪಠ್ಯಕ್ರಮದಿಂದ ವಿಕಾಸ ಸಿದ್ಧಾಂತ ಬೋಧನೆಯನ್ನು ತೆಗೆಯುವುದು ಅಥವಾ ಅವೈಜ್ಞಾನಿಕ ವಿವರಣೆಗಳು ಅಥವಾ ಭ್ರಮೆಗಳ ಮೂಲಕ ಅದನ್ನು ದುರ್ಬಲಗೊಳಿಸುವುದು ಪಠ್ಯಕ್ರಮವನ್ನು ಕೆಳಮಟ್ಟಕ್ಕೆ ಇಳಿಸುವ ಪ್ರಯತ್ನವಾಗಿರುತ್ತದೆಯಷ್ಟೇ.

ಚಾರ್ಲ್ಸ್ ಡಾರ್ವಿನ್ ಮುಂದಿಟ್ಟು ತರುವಾಯ ಅಭಿವೃದ್ಧಿಪಡಿಸಿ ವಿಸ್ತರಿಸಲಾಗಿರುವ ಪ್ರಾಕೃತಿಕ ಆಯ್ಕೆಯ ಮೂಲಕ ವಿಕಾಸದ ಸಿದ್ಧಾಂತವು ಆಧುನಿಕ ಜೀವಶಾಸ್ತ್ರ ಮತ್ತು ಔಷಧಗಳ ಮೇಲೆಯೇ ಅಲ್ಲದೆ ಎಲ್ಲ ಆಧುನಿಕ ವಿಜ್ಞಾನದ ಮೇಲೆ ಪ್ರಮುಖವಾದ ಪರಿಣಾಮವನ್ನು ಬೀರಿದೆ ಜೊತೆಗೆ ವಿಶ್ವಾದ್ಯಂತ ವ್ಯಾಪಕವಾದ ಬೆಂಬಲವನ್ನೂ ಪಡೆದಿದೆ. ಉದಾಹರಣೆಗಾಗಿ ವೀಕ್ಷಿಸಿ: http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

====================

 

Joint statement in Urdu

 

====================

ੲੇਵੋਲੂਸ਼ਨ ੳੁਪਰ: ਤਿੰਨ ਭਾਰਤੀ ਵਿਗਿਅਾਨ ਅਕਾਦਮੀਅਾਂਂ ਦਾ ਬਿਅਾਨ

ਮਾਣਯੋਗ ਮਨੁੱਖੀ ਵਸੀਲੇ ਅਤੇ ਵਿਕਾਸ ਰਾਜ ਮੰਤਰੀ ਸ੍ਰੀ ਸਤਪਾਲ ਸਿੰਘ ਨੇ ਕਿਹਾ ਹੈ, “ਸਾਡੇ ਪੂਰਵਜਾਂ ਜਾ ਕਿਸੇ ਹੋਰ ਨੇ, ਲਿਖਿਤ ਜਾਂ ਜ਼ਬਾਨੀ ਕਦੀ ਨਹੀਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ੳੁਹਨਾਂ ਨੇ  ਬਾਂਦਰ ਤੋਂ ਮਨੁੱਖ ਬਣਦਾ ਵੇਖਿਅਾ ਹੈ। ਡਾਰਵਿਨ ਦਾ ੲੇਵੋਲੂਸ਼ਨ ਸਿਧਾਂਤ ਵਿਗਿਅਾਨਕ ਤੌਰ ਤੇ ਗਲਤ ਹੈ। ਸਕੂਲ ਤੇ ਕਾਲਜ ਦੇ ਪਾਠਕ੍ਰਮ ਵਿੱਚ ੲਿਸ ਨੂੰ ਬਦਲਨਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ।”

ਤਿੰਨੇ ਭਾਰਤੀ ਵਿਗਿਅਾਨ ਅਕਾਦਮੀਅਾਂ ੲਿਹ ਕਹਿਣਾ ਚਾਹੁੰਦੀਅਾਂ ਨੇ ਕਿ ਮੰਤਰੀ ਦੇ ਬਿਅਾਨ ਦਾ ਕੋੲੀ ਵਿਗਿਅਾਨਕ ਅਾਧਾਰ ਨਹੀਂ ਹੈ। ੲੇਵੋਲੂਸ਼ਨ ਦਾ ਸਿਧਾਂਤ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਵਿਕਸਿਤ ਕਰਨ ਵਿੱਚ ਡਾਰਵਿਨ ਦਾ ਅਹਿਮ ਜੋਗਦਾਨ ਹੈ, ੲਿੱਕ ਸਥਾਪਤ ਸਿਧਾਂਤ ਹੈ। ੲੇਵੋਲੂਸ਼ਨ ਦੇ ਮੁਢਲੇ ਤੱਥਾਂ ਬਾਰੇ ਕੋੲੀ ਵਿਗਿਅਾਨਕ ਵਿਵਾਦ ਨਹੀਂ ਹੈ। ੲਿਹ ੲਿੱਕ ਵਿਗਿਅਾਨਕ ਸਿਧਾਂਤ ਹੈ ਤੇ ੲਿਸ ਦੇ ਅਾਧਾਰ ਤੇ ਅਨੇਕਾਂ ਸਹੀ ਅਨੁਮਾਨ ਲਗਾੲੇ ਗੲੇ ਹਨ ਜਿਹਨਾਂ ਦੀ ਨਰੀਖਣ ਤੇ ਤਜਰਬਿਅਾਂ ਰਾਹੀ ਪੁਸ਼ਟੀ ਕੀਤੀ ਜਾ ਚੁਕੀ ਹੈ।  ੲੇਵੋਲੂਸ਼ਨ ਦੇ ਸਿਧਾਂਤ ਨਾਲ ੲਿਕ ਅਹਿਮ ਸਮਝ ੲਿਹ ਬਣਦੀ ਹੈ ਕਿ ਧਰਤੀ ੳੁਪਰ ਰਹਿਣ ਵਾਲੇ ਸਾਰੇ ਜੀਵ ਜੰਤੂ ਜਿਹਨਾ ਵਿੱਚ ਮਨੁੱਖ ਤੇ ਬਾਂਦਰ ਵੀ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹਨ ੲਿਕੋ ਜਾਂ ਕੁਝ ਚੰਦ ਪੂਰਵਜਾਂ ਤੋ ਵਿਕਸਤ ਹੋੲੇ ਹਨ।

ੲੇਵੋਲੂਸ਼ਨ ਦੇ ਸਿਧਾਂਤ ਨੂੰ ਸਕੂਲਾਂ ਕਾਲਜਾਂ ਦੇ ਪਾਠਕ੍ਰਮ ਵਿੱਚੋਂ ਕਢਣਾ ਤੇ  ਜਾਂ ੲਿਸ ਦੀ ਥਾਂ ਅਣ-ਵਿਗਿਅਾਨਕ ਤੇ ਮਿਥਿਹਾਸਕ ਸਿਧਾਂਤਾ ਨੂੰਪੜਾੳੁਣਾਂ ੲਿੱਕ ਪਿਛਾਂਹ ਖਿਚੂ ਕਦਮ ਹੋਵੇਗਾ।

ਚਾਰਲਜ਼ ਡਾਰਵਿਨ ਨੇ ਕੁਦਰਤੀ ਚੋਣ ਦੇ ਅਾਧਾਰ ਤੇ  ਜੋ ੲੇਵੋਲੂਸ਼ਨ ਦਾ ਸਿਧਾਂਤ ਦਿੱਤਾ, ਤੇ ਜਿਸ ਨੂੰ ਬਾਅਦ ਵਿੱਚ ਅੱਗੇ ਵਧਾੲਿਅਾ ਗਿਅਾ, ਦਾ ਵੱਡਾ ਪ੍ਰਭਾਵ ਅਜੋਕੇ ਜੀਵ ਵਿਗਿਅਾਨ ਤੇ ਚਕਿਤਸਾ ੳੁਪਰ, ਤੇ
ਅਸਲ ਵਿੱਚ ਸਾਰੇ ਅਜੋਕੇ ਵਿਗਿਅਾਨ ੳੁਪਰ ਹੈ। ੲਿਸ ਨੂੰ ਦੁਨੀਅਾਂ ਭਰ ਦਾ ਸਮਰਥਨ ਪ੍ਰਾਪਤ ਹੈ। ੳੁਦਾਹਰਣ ਦੇ ਤੋਰ ਤੇ   http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

 

====================

माननीय केंद्रीय मनुष्यबळ विकास मंत्री श्री. सत्यपाल सिंह यांच्या भाषणाच्या प्रसिद्ध झालेल्या वृत्तांतानुसार त्यांनी एक विधान केले आहे आणि ते असे आहे –“ आजतागायत आपले पूर्वज तसेच इतर कुठल्याही व्यक्तींनी , वानरांचे मनुष्यात रूपांतर होतांना प्रत्यक्ष पहिल्याचे लेखी किंवा तोंडी स्वरूपात कुठेही नमूद केलेले नाही. डार्विनचा ( मानवउत्क्रांतीचा ) सिद्धांत हा शास्त्रीय दृष्ट्या चुकीचा आहे. त्यामुळे तो शालेय आणि महाविद्यालयीन अभ्यासक्रमांमध्ये बदलला पाहिजे.”

भारतातल्या तीनही विज्ञान अकादमींचं याला प्रत्युत्तर आहे की मंत्रीमहोदयांच्या विधानाला कुठलाही वैज्ञानिक आधार नाही. मानवउत्क्रांतीचा सिद्धांत हा वैज्ञानिक दृष्ट्या अनेकप्रकारे सिद्ध झालेला आहे आणि या प्रक्रियेत डार्विनचे संशोधन मूलभूत आणि दूरगामी स्वरूपाचे आहे. उत्क्रांतीच्या मूळ स्वरूपाबाबत कुठलेही वैज्ञानिक वाद अस्तित्वात नाहीत. हा एक वैज्ञानिक सिद्धांत आहे आणि त्या सिद्धांताला अनुसरून व्यक्त केलेल्या अनेक शक्यता दीर्घकालीन प्रयोगांमधून आणि निरीक्षणातून सातत्याने सिद्ध झाल्या आहेत. वानर आणि मानव यांच्यासह पृथ्वीवरील सर्व सजीवसृष्टीचे वैविध्य हे एका किंवा काही विशिष्ट समान प्रजनकांपासून (common ancestral progenitors) विस्तारित झाले आहे ही एक महत्त्वाची अंतर्यामी दृष्टी उत्क्रांती-सिद्धांताने दिलेली आहे.

शालेय आणि महाविद्यालयीन अभ्यासक्रमांमधून उत्क्रांती-सिद्धांत वगळणे किंवा अवैज्ञानिक स्पष्टीकरणे आणि पुराणकथांद्वारे त्याचे महत्व कमी करणे हे एक कालविसंगत आणि प्रतिगामी पाऊल ठरेल.

चार्ल्स डार्विनचा निसर्गनिवडीच्या तत्त्वावर आधारलेला आणि इतरांनी भर घालून वृद्धिंगत केलेला उत्क्रांती-सिद्धांत हा आधुनिक वैद्यकशास्त्रातला आणि जीवशास्त्रातला, किंबहुना आधुनिक विज्ञानातील महत्त्वाचा आणि प्रभावी सिद्धांत आहे. तो संपूर्ण विश्वात सर्वमान्य आहे.

उदाहरणार्थ पहा: http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

 

====================

ভারতীয় বিজ্ঞান একাডেমী, ভারতীয় জাতীয় বিজ্ঞান একাডেমী এবং জাতীয় বিজ্ঞান একাডেমী, ভারত -এর দেওয়া যৌথ বিবৃতি (সম্পূর্ণ):

উদ্ধৃতি অনুযায়ী, মাননীয় মানব সম্পদ উন্নয়ন প্রতিমন্ত্রী শ্রী সত্যপাল সিংহ বলেছেন যে আমাদের পূর্বপুরুষ সহ কেউ কখনো মৌখিক বা লিখিত ভাবে বলেননি যে তাঁরা বানর কে মানুষে রূপান্তরিত হতে দেখেছেন। ডারউইনের (মানব বিবর্তনের) তত্ত্ব বৈজ্ঞানিক ভাবে ভুল। স্কুলের এবং কলেজের পাঠ্যক্রমে এটিকে বদলানো প্রয়োজন।

ভারতবর্ষের তিন বিজ্ঞান একাডেমী জানাতে চায় যে মন্ত্রী মহোদয়ের এই উক্তির কোনো বৈজ্ঞানিক ভিত্তি নেই। বিবর্তনবাদ একটি সুপ্রতিষ্ঠিত তত্ত্ব, যাতে ডারউইনের অবদান অনস্বীকার্য। বিবর্তনের মূল তত্ত্ব সম্বন্ধে কোনো বৈজ্ঞানিক মতভেদ নেই। এটি একটি বৈজ্ঞানিক তত্ত্ব, এবং এর থেকে পাওয়া বহু পূর্বাভাস বার-বার পরীক্ষা-নিরীক্ষার মাধ্যমে নিশ্চিতরূপে প্রমাণ করা হয়েছে। বিবর্তনবাদের একটি গুরুত্বপূর্ণ উপলব্ধি হলো যে মানুষ এবং বানর সহ এই গ্রহের সমস্ত প্রাণী এক অথবা অল্পসংখ্যক কিছু সাধারণ পূর্বপুরুষ (common ancestral progenitor) থেকে উদ্ভূত হয়েছে ।

স্কুল এবং কলেজের পাঠ্যক্রম থেকে বিবর্তনবাদকে বাদ দেওয়া, অথবা অবৈজ্ঞানিক তত্ত্ব কিংবা পুরাকথার মাধ্যমে তার লঘুকরণ এক পশ্চাৎগামী পদক্ষেপ হবে।

চার্লস ডারউইনের প্রাকৃতিক নির্বাচনের মাধ্যমে বিবর্তনের যে তত্ত্ব, তাকে পরবর্তীকালে অনেক উন্নীত এবং পরিবর্ধিত করা হয়েছে এবং এই তত্ত্ব আধুনিক জীববিজ্ঞান, চিকিৎসাশাস্ত্র এবং সামগ্রিক ভাবে আধুনিক বিজ্ঞানকে নানারূপে প্রভাবিত করেছে। সারা বিশ্বে একে প্রভূতভাবে সমর্থন করা হয়। উদাহরণস্বরূপ দেখুন: http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

 

====================
ଭାରତୀୟ ବିଜ୍ଞାନ ଏକାଡେମୀ, ଭାରତୀୟ ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ବିଜ୍ଞାନ ଏକାଡେମୀ ତଥା ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ବିଜ୍ଞାନ ଏକାଡେମୀର ବକ୍ତବ୍ୟର ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ଉଲ୍ଲେଖ୍ୟ:

ମାନନୀୟ ରାଜ୍ୟ ମାନବ ସମ୍ବଳ ବିକାଶ ମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀଯୁକ୍ତ ସତ୍ୟପାଳ ସିଂ ଙ୍କ ଅନୁସାରେ ଆମ୍ଭର ପୂର୍ବଜଙ୍କ ସହିତ ଅନ୍ୟ କେହିମଧ୍ୟ ଏହା ଲେଖି କିମ୍ବା କହି ନାହାନ୍ତି କି, ସେମାନେ ବାନର ଙ୍କୁ ମନୁଷ୍ୟ ରେ ରୂପାନ୍ତରିତ ହେବାର ଦେଖିଅଛନ୍ତି। ଡାରୱିନ୍ ଙ୍କର (ମନୁଷ୍ୟର କ୍ରମବିକାଶ ର) ସିଦ୍ଧାନ୍ତ ବୈଜ୍ଞାନିକ ଦୃଷ୍ଟିକୋଣରୁ ଭୁଲ୍ ଅଟେ। ଏଣୁ ଏହାକୁ ବିଦ୍ୟାଳୟ ତଥା ମହାବିଦ୍ୟାଳୟ ର ପାଠ୍ୟକ୍ରମରୁ ବଦଳାଇବା ଉଚିତ।
ଉପରୋକ୍ତ ତିନୋଟି ଭାରତୀୟ ଶିକ୍ଷା ପ୍ରତିଷ୍ଠାନ ଏହା କହିବାକୁ ଚାହୁଁ ଅଛନ୍ତି କି, ଉକ୍ତ ମନ୍ତ୍ରୀ ମହୋଦୟଙ୍କ ବାର୍ତ୍ତାର କୌଣସି ବୈଜ୍ଞାନିକ ଆଧାର ନାହିଁ, ବିକାଶବାଦର ସିଦ୍ଧନ୍ତ (Theory of evolution) ଯେଉଁଥିରେ ଡାରୱିନ୍ ଙ୍କର ମହାନ ଯୋଗଦାନ ଅଛି, ସେଥିରେ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ରୂପେ ସ୍ଥାପନ କରିଅଛନ୍ତି। କ୍ରମବିକାଶ ର ସିଦ୍ଧାନ୍ତର ମୌଳିକ ସମ୍ମତି ଉପରେ କୌଣସି ପ୍ରକାରର ବୈଜ୍ଞାନିକ ବିବାଦ ନାହିଁ। ଏହା ଏପରି ଏକ ବୈଜ୍ଞାନିକ ସିଦ୍ଧାନ୍ତ ଯାହାକି ଏପରି ଅନେକ ଭବିଷ୍ୟବାଣୀ କରିଅଛି, ଯାହାର ଅନେକ ଥର ପ୍ରୟୋଗ ତଥା ନିରୀକ୍ଷଣ ଦ୍ୱାରା ପୃଷ୍ଟିକରଣ କରାଯାଇଅଛି। କ୍ରମବିକାଶର ସିଦ୍ଧାନ୍ତର ଏକ ମହତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଅନ୍ତର୍ଦୃଷ୍ଟି ଏହିକି, ମନୁଷ୍ୟ ତଥା ଅନ୍ୟ ବାନର ସହ ଏହି ଗ୍ରହର ସମସ୍ତ ପ୍ରାଣୀଙ୍କର ବିକାଶ ଏକ ବା କିଛି ସମାନ ପୂର୍ବଜଙ୍କ ଠୁ ହି ହୋଇଅଛି।
ବିଦ୍ୟାଳୟ ତଥା ମହାବିଦ୍ୟାଳୟର ପାଠ୍ୟକ୍ରମ ରେ କ୍ରମବିକାଶବାଦ ର ସିଦ୍ଧନ୍ତର ବିଷୟ କୁ ବହିର୍ଭୁତ କରିବା କିମ୍ବା ତାହାକୁ ଅନ୍ୟ କୌଣସି ଅଣବୈଜ୍ଞାନିକ ବ୍ୟାଖ୍ୟା କିମ୍ବା କଳ୍ପକଳ୍ପିତ ବିଷୟରେ ଅପମିଶ୍ରଣ କରିବା ଏକ ପଛଘୁଞ୍ଚା ପଦକ୍ଷେପ ହେବ।
ଚାର୍ଲସ୍ ଡାରୱିନ୍ ଙ୍କ ଦ୍ଵାରା ପ୍ରତିପାଦିତ ଏବଂ ତତ୍-ପରେ ବିକଶିତ ଏବଂ ବିସ୍ତାରିତ ପ୍ରାକୃତିକ ଚୟନ ଦ୍ୱାରା କ୍ରମବିକାଶବାଦ ର ସିଦ୍ଧାନ୍ତର ଆଧୁନିକ ଜୀବବିଜ୍ଞାନ, ଚିକିତ୍ସାବିଜ୍ଞାନ ତଥା ସମ୍ପୁର୍ଣ୍ଣ ବିଜ୍ଞାନଶାସ୍ତ୍ର ଉପରେ ମହାନ ପ୍ରଭାବ ରହିଅଛି। ସମ୍ପୁର୍ଣ୍ଣ ବିଶ୍ୱରେ ଏହାର ସମର୍ଥନ କରାଯାଇଅଛି।
ଉଦାହରଣ ପାଇଁ ନିମ୍ନୋକ୍ତ Link କୁ ଦେଖନ୍ତୁ; http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

====================
కోతి మనిషిగా మారే పరిణామక్రమం గురించి మన పూర్వీకులుగాని ఇంకా ఎవరైనాగాని చూసినట్లుగా,
వ్రాత పూర్వకంగానూ మౌఖికంగానూ చెప్పలేదు. డార్విన్ సిద్ధాంతం (మానవ పరిణామక్రమం) వైజ్ఞానికంగా తప్పు. కాబట్టి మన పాఠశాలల్లోనూ, కళాశాలల్లోనూ పాఠ్య ప్రణాళికలలో మార్పు అవసరం” అని గౌరవనీయులైన  మానవ వనరుల అభివృద్ధి
శాఖ, సహాయ మంత్రి వర్యులు శ్రీ సత్యపాల్ సింగ్ గారు చెప్పినట్లు పేర్కొనబడింది.

మంత్రి గారు పేర్కోన్న వ్యాఖ్యలకు ఎటువంటి వైజ్ఞానిక ఆధారాలు లేవు అని సైన్స్ అకాడమీలు మూడు చెప్పదలుచుకున్నయి. డార్విన్ విశిష్ట సేవ చేసినటువంటి జీవ పరిణామక్రమ సిద్ధాంతం భాగా స్థాపించబడింది. జీవ పరిణామ సిద్ధాంతం గురించిన ప్రాథమిక వాస్తవాలకి సంబంధించి ఎటువంటి శాస్త్రీయమైన వివాదాలు లేవు. ఇది ఒక వైజ్ఞానిక సిద్ధాంతం. ప్రయోగాలూ, పరిశీలనల ద్వారా దీని అంచనాలు పదే పదే ధ్రువీకరించబడ్డాయి. పరిణామ సిద్ధాంతం వల్ల వచ్చిన
ముఖ్యమైన అవగాహాన ఏమిటి అంటే మనుషులు, మరియు మిగతా కోతి జాతులతోపాటు ప్రపంచంలో ఉన్న అన్ని జీవ రాసులకి మూలాలు ఒక్కటి గాని, కొన్నిగాని ఉన్నాయి.

ఈ సిద్ధాంతాన్ని పాఠశాల మరియు కళాశాలల పాఠ్య ప్రాణాళికలనుండి తొలగించడంగానీ అశాస్త్రీయమైన లేదా ఊహాజనితమైన వివరణలను జోడించడంగానీ వంటివి  చేయడం వెనకడుగే అవుతుంది.

నేచురల్ సెలక్షన్  సూత్రం ద్వారా జరిగే జీవ పరిణామక్రమ సిద్ధాంతాన్ని డార్విన్ ప్రతిపాదించాడు. ఇది క్రమేణా విస్తరింపబడుతూ ఆధునిక జీవశాస్త్రాన్ని మరియు వైద్య శాస్త్రాన్నే కాకుండా సమస్త  వైజ్ఞానిక శాస్త్రాలని ప్రభావితం చేసింది. ఈ విషయం ప్రపంచంలో విస్తృతంగా. గుర్తించబడింది. ఉదాహరణకి: http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

====================
Indian Academy of Sciences, Indian National Science Academy, National Academy of Sciences, India എന്നിവർ  ചേർന്ന്  നടത്തിയ പ്രസ്താവനയുടെ പൂർണ്ണ രൂപം.

ബഹു. മാനവശേഷി വികസന സഹമന്ത്രി, ശ്രീ സത്യപാൽ സിംഗ് , “നമ്മുടെ പൂർവ്വികർ ഉൾപ്പെടെ ആരും, എഴുത്തിലൂടേയോ   വാമൊഴിയായോ , ഒരു കുരങ്ങൻ  മാറി മനുഷ്യനാവുന്നതു കണ്ടു എന്ന് പറഞ്ഞിട്ടില്ല. ഡാർവിന്റെ പരിണാമ സിദ്ധാന്തം ശാസ്ത്രീയമായി തെറ്റാണ്. സ്കൂൾ, കോളേജ് പാഠ്യപദ്ധതിയിലും ഇതു മാറ്റേണ്ടത് ആവശ്യമാണ്.” എന്നു പറഞ്ഞിരിക്കുന്നു.

ഇന്ത്യയിലെ മൂന്നു സയൻസ് അക്കാദമികൾ, മന്ത്രിയുടെ  പ്രസ്താവന ശാസ്ത്രീയപരമായി അടിസ്ഥാനരഹിതമാണ്എന്ന് പ്രസ്താവിക്കാൻ  ആഗ്രഹിക്കുന്നു. ഡാർവിൻ അടിസ്ഥാനപരമായ സംഭാവനകൾ ചെയ്തിട്ടുള്ള പരിണാമ സിദ്ധാന്തം വ്യക്തമായി സ്ഥാപിതമാണ്. പരിണാമ സിദ്ധാന്തത്തിന്റെ  അടിസ്ഥാന വസ്തുതകൾ  തർക്കവിമുക്തമാണ് . അതിന്റെ ‘predictions’ നിരവധി നിരീക്ഷണങ്ങളിലൂടെയും പരീക്ഷണങ്ങളിലൂടെയും പല തവണ സ്ഥിരീകരിക്കപ്പെട്ടിട്ടുള്ളതാണ്. പരിണാമ സിദ്ധാന്തത്തിൽ  നിന്നുള്ള ഒരു പ്രധാന ഉൾക്കാഴ്ച, മനുഷ്യരും മറ്റ് കുരങ്ങുകളും ഉൾപ്പെടെ ഈ ഗ്രഹത്തിലെ എല്ലാ ജീവരൂപങ്ങളും, ഒന്നോ അല്ലെങ്കിൽ വളരെ കുറച്ചു, പൊതുപൂർവികജീവികളിൽ നിന്നും ഉരുത്തിരിഞ്ഞതാണ്  എന്നതാണ്.

സ്കൂൾ, കോളേജ് പാഠ്യപദ്ധതിയിൽ  നിന്നും പരിണാമ സിദ്ധാന്തം നീക്കം ചെയ്യുന്നതോ,  അല്ലെങ്കിൽ ശാസ്ത്രീയമല്ലാത്ത  വിശദീകരണങ്ങളോ,  മിഥ്യാധാരണകളോ ഉപയോഗിച്ചു അതിനെ നേർപ്പിക്കുന്നതോ, ഒരു പിന്തിരിപ്പൻ നടപടി ആകും.

ചാൾസ് ഡാർവിൻ മുന്നോട്ടു വച്ചതും, പിന്നീട് കൂടുതൽ വികസിക്കപ്പെടുകയും ചെയ്തതായ, പ്രകൃതി നിർദ്ധാരണം മുഖേനയുള്ള പരിണാമസിദ്ധാന്തം, ആധുനിക ബയോളജി, മെഡിസിൻ എന്നിവയിലും മറ്റു ആധുനിക ശാസ്ത്രങ്ങളിലും പ്രധാന സ്വാധീനം ചെലുത്തിയിട്ടുണ്ട്. ലോകമെമ്പാടും അത് പിന്തുണയ്ക്കപ്പെടുന്നുമുണ്ട്. ഉദ്ധാഹാരണത്തിനു http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

====================

 

આપણા દેશની ત્રણ પ્રસિદ્ધ સંસ્થાઓ ઇન્ડિયન એકેડમી ઓફ સાયંસિઝ, ઇન્ડિયન નેશનલ સાયંસ એકેડમી અને નેશનલ એકેડમી ઓફ સાયંસિઝ દ્વારા પ્રસિદ્ધ કરવામાં આવેલ નિવેદન નીચે મુજબ છે.

માનવ સંસાધન વિકાસ મંત્રાલયના માનદ રાજ્યકક્ષાના મંત્રિશ્રી સત્યપાલસિંઘને એમ કહેતા ટાંકવામાં આવેલ છે કે, “આપણા પુર્વજો સહિત કોઇએ પણ લેખિત કે મૌખિક રીતે એમ જણાવેલ નથી કે તેઓએ કોઇ વાનરને માનવમાં રુપાંતરિત થતો જોયો હતો. ડાર્વિનનો માનવ ઉત્ક્રાંતિવાદનો સિદ્ધાંત ખોટો છે. તેથી એ મુદ્દો શાળા અને કોલેજના અભ્યાસક્રમમાં ફેરફાર માંગે છે.”

ભારતની ત્રણ વિજ્ઞાન અકાદમીઓ આથી જણાવવા ઇચ્છે છે કે માનનીય  મંત્રિશ્રીનાં  આ નિવેદનનો કોઇ વૈજ્ઞાનિક આધાર નથી. ઉત્ક્રાંતિવાદ કે જેમાં ડાર્વિને પાયાનું યોગદાન આપેલ છે તે પુરેપુરો પ્રસ્થાપિત થઇ ચુકેલ છે. ઉત્ક્રાંતિને લગતાં મૂળભુત તથ્યો વિષે કોઇ વૈજ્ઞાનિક મતભેદ નથી. આ એક વૈજ્ઞાનિક સિદ્ધાંત છે કે જેમાં ઘણી આગાહીઓ પણ કરવામાં આવેલ, અને તેની  અનેક વાર ફરી ફરીને પ્રયોગો તેમજ અવલોકનો દ્વારા પુષ્ટિ થઇ ચુકેલ છે. ઉત્ક્રાંતિવાદમાંથી મળતી એક આંતર્દૃષ્ટિ કે સુઝસમજ એ છે કે આ પૃથ્વી-ગ્રહ પરના માનવ કે અન્ય વાનરો સહિતના તમામ સજીવ -પ્રકારો, એક કે વધુ સમાન પૈતૃક પ્રજનકો (common ancestral progenitors) માંથી ઉત્ક્રાંતિ પામેલ છે.

આમ, શાળા-કોલેજોના પાઠ્યક્રમમાંથી ઉત્ક્રાંતિવાદનો અભ્યાસ રદ કરવો અથવા કોઇ અવૈજ્ઞાનિક સમજુતિ કે કલ્પના-કથા દ્વારા તેને મંદ પાડવો એ એક પિછેહઠનું પગલું ગણાશે.

ચાર્લ્સ ડાર્વિને જે પ્રતિપાદિત કર્યો એ પ્રાકૃતિક પસંદગી દ્વારા ઉત્ક્રાંતિનો સિદ્ધાંત કે જે ત્યારબાદ વિકસાવીને વધુ  વિસ્તૃત કરવામાં આવ્યો છે, તેનો આધુનિક જીવવિજ્ઞાન અને ચિકિત્સાશાસ્ત્રમાં  તેમજ સમગ્ર વિજ્ઞાન પર બહુ મોટો પ્રભાવ પડેલ છે. વળી તે સિદ્ધાંતને જગતભરમાંથી વ્યાપક સમર્થન મળેલ છે. આ અંગેની વધુ વિગતો માટે જુઓ,

http://www.nas.edu/evolution/TheoryOrFact.html

Translation: Prof. K.N. Joshipura.

====================

 

Join statement in Manipuri (Bengali script, Meitei script)

 

====================

 

ভাৰতবৰ্ষৰ মানৱ সম্পদ উন্নয়নৰ ৰাজ্যিক মন্ত্ৰী, শ্ৰী সত্যপাল সিঙৰ উদ্ধৃতি অনুসৰি, “আমাৰ লগতে পূৰ্ব প্ৰজন্মৰ কোনো লোকেই মানৱ বিৱৰ্তনৰ প্ৰক্ৰিয়া দেখা পোৱা নাই অথবা তেওঁলোকে লিখিত বা মৌখিকভাৱে মানুহৰ বিৱৰ্তন সম্পৰ্কে কোনো কথা প্ৰকাশ কৰা নাই। গতিকে এইক্ষেত্ৰত ডাৰউইনৰ (মানুহৰ বিৱৰ্তনৰ) মতবাদটো শুদ্ধ নহয়। সেয়েহে বিদ্যালয়-মহাবিদ্যালয়ৰ পাঠ্যক্ৰমত এই মতবাদটো পৰিবৰ্তন কৰাটো প্ৰয়োজনীয়।”

ভাৰতবৰ্ষৰ তিনিখন উচ্চ বিজ্ঞান শৈক্ষিক প্ৰতিষ্ঠানে অলপতে এই বিষয়ত প্ৰতিক্ৰিয়া প্ৰকাশ কৰি কৈছে যে মন্ত্ৰীৰ এই মন্তব্য বিজ্ঞানসন্মতভাৱে গ্ৰহণযোগ্য নহয়। ডাৰউইনৰ এই বিৱৰ্তনৰ মতবাদটো হৈছে এক বিজ্ঞানসন্মতভাৱে প্ৰতিষ্ঠিত মতবাদ। এই মতবাদক অস্বীকাৰ কৰিব পৰাকৈ কোনোধৰণৰ বিজ্ঞানসন্মত প্ৰমাণ দিব পৰা নাযায়। ই হৈছে এক বিজ্ঞানৰ মতবাদ, যিয়ে বিভিন্ন পৰীক্ষা-নিৰীক্ষাৰ জৰিয়তে বহু তথ্যৰ ভবিষ্যবাণী প্ৰদান কৰি ইতিমধ্যে ইয়াৰ সত্যতা প্ৰমাণ কৰিছে। মতবাদটোৰ এটা গুৰুত্বপূৰ্ণ তত্ত্ব হ’ল যে মানুহৰ লগতে পৃথিৱীৰ সকলোবোৰ জীৱৰ বিকাশ সম্ভৱ হৈছে কিছুমান পূৰ্ব একেজাতীয় জীৱৰ ক্ৰমবিকাশৰ দ্বাৰা।

গতিকে যিকোনো অবিজ্ঞানসন্মত ব্যৱৰণৰ ওপৰত ভিত্তি কৰিয়ে পাঠ্যক্ৰমৰপৰা এই মতবাদটো আঁ‌তৰাই দিয়াটো এটা পশ্চাৎমুখী পদক্ষেপ হিচাপে বিবেচিত হ’ব।

চাৰ্লছ ডাৰউইনৰ দ্বাৰা উদ্ভাৱন আৰু বিকশিত হোৱা এই মতবাদটোৱে জীৱবিজ্ঞান, চিকিৎসা বিজ্ঞানৰ লগতে আধুনিক বিজ্ঞানৰ সকলো ক্ষেত্ৰতে এক গুৰুত্বপূৰ্ণ ভুমিকা পালন কৰি আহিছে। বিৱৰ্তনৰ এই মতবাদটো বৃস্তিতভাৱে পৃথিৱীৰ সকলো ঠাইতে প্ৰযোজ্য আৰু গ্ৰহণযোগ্য।

====================

7 comments

by Newest
by Best by Newest by Oldest
1
Krishnaswamy Sankaran

Great to see the Academies speaking up. Way to go!

2

Indeed!

3

I understand that when we ask about science we should have best evidence or proof that describes our words.

4

Its the responsibility of the three scientific academies to improve scientific temper even in non scientific mass of our country

5

It is really great to see the tremendous effort to disseminate this in other languages, and get science to be inclusive.

6

Thank you Ashwini, Sudipta and Krishnaswamy. Please try and disseminate the statement as widely as possible in the Indian languages, too.

7
Ashwini Srivastava

It’s great that all the three scientific academies have contradicted the statement of minister on firm footing of scientific facts. The statement will certainly refute the non scientific approach to define the evolution in common people I mean non scientific mass of our country. Good approach.

Add comment

You entered an incorrect username or password